बिटकॉइन क्या है-What is Bitcoin in hindi

प्रिय पाठकों ! आज हम Bitcoin यानी Digital Currency की उस तकनीकी क्रांति के विषय में आपसे ज्ञान साझा करेंगे जिसकी चर्चा और लोकप्रियता आज आसमान छू रही है।

जी हां Bitcoin और इसके कार्य की तकनीक ही इसे एक Secure, Unbreachable और hackproof digital Payment सिस्टम बनाती है। यही कारण है जिसे लोग आज इसे Investment, Alternative currency तो बहुत से लोग इसे Future की Currency मान रहे हैं।

हालांकि RBI ने भी डिजिटल करेंसी लाने का संकेत दे चुकी है और इसके लिए समिति भी बन चुकी है जो कि हो सकता है कि ब्लॉकचैन तकनीक को अपनाकर इसे लाए, ताकि सबकुछ पारदर्शी हो।

चलिए आज इसी तकनीक को समझने की कोशिश करते हैं। इस पोस्ट में हम इसके सभी मुख्य पहलुओं पर अलग-अलग हैडिंग्स में बांटकर आपसे जानकारी साझा करेंगे।

बिटकॉइन क्या है- (What is Bitcoin in hindi)?

Bitcoin एक Virtual currency (आभासी मुद्रा) है। जिसे Digital currency भी कहते हैं। ये दुनिया की पहली Decentralized cryptocurrency है। इसमें Cryptography की तकनीक इस्तेमाल में लाई गई है।

डिजिटल होने के कारण इसे भौतिक चीजों (Physical) की तरह देख या स्पर्श नहीं कर सकते। बिटकॉइन एक digital payment system है। इसमें transactions peer-to-peer होते हैं मध्यस्थ कोई नहीं होता।

Bitcoin का ईजाद 2009 में Satoshi Nakamoto के द्वारा किया गया था। लेकिन ये नाम किसी एक व्यक्ति का है या किसी समूह का ये कोई नहीं जानता।

आमतौर पर हमें कहीं पैसे transfer करना होता है तो वो पैसा किसी न किसी केंद्रीय एजेंसी से होकर जाता है जो हमारे पैसे को control करता है।

Decentralized का मतलब इसका कोई केंद्र नहीं है इसे नियंत्रित करने के लिए कोई संस्था (Institution) नहीं है। ये जिसके पास है वो खुद उसका मालिक है क्योंकि रुपए (INR, $ etc.) की तरह इसको समर्थन (Guarantee) देने वाली कोई सरकार नहीं है।

कहने का मतलब ये की इसपर RBI के गवर्नर के signature की जगह यूजर की digital signature होती है। इसलिए यूजर ही इसका मालिक है। simply कहें तो, Bitcoin basically एक computer file है।

लोगों के द्वारा इसे महत्व दिए जाने, पारंपरिक मुद्रा की अपेक्षा काफी सुरक्षित होने व व्यापक रूप से (globally) माने जाये जाने के कारण आज ये प्रचलन (Trend) में है।

ये काफी सुरक्षित भी है क्यों कि बिटकॉइन का नेटवर्क distributed होता है। इसे हैक करने के लिए hackers को एकसाथ हजारों computers (51%) को एक ही समय पर hack करना होगा जो की काफी कठिन है।

इस लेख में हम इसके बारे में नीचे के हेडलाइंस में विस्तृत चर्चा करेंगे।

बिटकॉइन Mining क्या होती है (What is Bitcoin Mining)?

Bitcoins के transactions को Verification करने की प्रक्रिया (Process) को mining कहते हैं। Transaction verified हो जाने पर Miners को नए bitcoins मिलते हैं।

ये Process 2 Parts में complete होती है। पहला काम bitcoin के पिछले (Past) transaction को verify करना होता है। ये फ़ाइल लगभग 1 MB साइज की होती है।

उसके बाद verified transactions के block को Blockchain में Add करने के लिए एक complicated math puzzle को solve करना होता है। इसमें Computational power की काफी खपत होती है।

Puzzle solve होने पर Miner को नए bitcoins इनाम स्वरूप मिलते हैं। Verified block, blockchain से जुड़ जाती है। हर block के origin की date और time उस ब्लॉक पर होती है जिसे Time stamped होना कहते हैं।

Blockchain को Public ledger भी कहते हैं। विस्तृत जानकारी के लिए नीचे blockchain heading के अंतर्गत पढ़ें।

ब्लॉकचैन (Blockchain) तकनीक से bitcoin transactions कैसे होते हैं?

Step-by-step Process of Bitcoin transaction

जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है ये blocks की chain है। verified block ब्लॉकचैन से जुड़ जाती है।

इसके हर transaction की हजारों multi copies होती हैं जो की इसे चलाने वाले computers पर मौजूद होती हैं। चलिए इसके transaction की प्रोसेस को जानते हैं।

मानलीजिए राम एक किताब खरीदता है और बदले में दुकानदार के wallet में 10 बिटकॉइन Transfer करता है। अब वो transaction detail एक hash algorithm (SHA256) में एन्क्रिप्ट हो जाएगी। 

इसके बाद राम के Private key के साथ digitally signed होकर एक बंदबॉक्स (Padlock) की तरह बन्द हो जाएगी।

जबतक ये ब्लॉक miners के द्वारा solve नहीं हो जाती, तब तक ‘mempool’ कहलाएगी। ऐसे ही कई unsolved transactions मिलकर block बनाते हैं।

इस box में Transaction की details (Sender, Receiver, hash, amount) होती हैं साथ ही इसके पिछले transaction की भी detail होती है।

जब padlock डिस्ट्रीब्यूट होती है तो साथ में यूजर की Public key भी होती है। इस Padlock को ही असल में blockchain या Public ledger कहते हैं। हर 10 मिनट पर एक ब्लॉक blockchain से जुड़ती है।

ये publicaly available होती है। कोई भी किसी के Public key address पता कर के Transactions का आसानी से पता लगा सकता है।

अब Miners इसी Virtual padlock की Key ढूंढने के लिए complicated mathemtical puzzle को solve करते हैं।

जब ये puzzle network के किसी भी node के द्वारा Solve हो जाती है तो इस प्रक्रिया को ही ‘Proof of work‘ कहते हैं।
इसमें Padlock (box) खुल जाता है और data public ledger में Add यानी जुड़ जाता है। इस प्रकार transaction successful हो जाता है।

Miner को इनाम के रूप में नए bitcoins मिलते हैं। जो भी puzzle सबसे पहले solve करता है उसी को bitcoins मिलते हैं।

ये reward के रूप में मिलने वाले bitcoins हर 4 साल में आधे होते जाते हैं। उदाहरण के रूप में 2009 में प्रति ब्लॉक को चैन में add कराने पर 50 bicoins reward में मिलते थे। Nakamoto को भी पहला ब्लॉक (block no. 0) mine करने पर reward में 50 bitcoins मिले थे। इस ब्लॉक को ‘Genesis block’  कहते हैं।

2012-2013 में 25 bitcoins मिलने लगे, 2016-2017 में 12.5 थे जबकि आज 6.25 मिलते हैं। यही कारण है कि Mining के लिए लोगों में होड़ लगी हुई है।

भारत में बिटकॉइन कैसे खरीदें या बेचें (How to buy/sale bitcoins in India)?

India में bitcoin खरीदने व बेचने के लिए तमाम विकल्प मौजूद हैं। आप Online bitcoins खरीद सकते हैं। अगर आपको अपनी IP address छूपानी है तो VPN का इस्तेमाल कर सकते हैं।

Exchange से Bitcoin Purchase करने पर Commission या charge कम लगता है। Credit card से किसी भी खरीददारी पर Charge ज्यादा लगता है।

WazirX, Coinsecure, Zebpay, Unocoin, Coinbase India में Bitcoin purchase करने के लिए सबसे Popular Exchanges हैं।

अन्य देशों की तरह भारत में भी bitcoins के खरीद-बिक्री के लिए आपको KYC (Know your customer) कराना पड़ेगा। इस प्रक्रिया में आपको अपना bank details, Address proof व PAN card की क्लिक की हुई फोटो online exchange, apps में जमा कराना होगा।

March 2020 में भारत के Supreme court ने Cryptocurrency को लेकर RBI की दलीलें खारिज करते हुए भारत में इसके खरीद फरोख्त पर मुहर लगा दी। तब से भारतीयों ने बिटकॉइन में खुलकर Invest करने के बारे में सोचना शुरू कर दिया।

हालांकि ये हमेशा एक जोखिम वाला इन्वेस्ट रहा है लेकिन जिस निवेश में जितना जोखिम है उतना ही बड़ा फायदा भी।

बिटकॉइन आज का रेट (Bitcoin rate for today)

जैसा कि आपको पता होगा कि bitcoin का rate stable नहीं रहता है। इसमें अस्थिरता (Volatility) बहुत रहती है।  यही कारण है कि इसमें Invest करने से लोग घबराते भी हैं।

अगर आप किसी भी दिन का bitcoin का rate जानना चाहें तो इसके लिए कई वेबसाइट्स हैं जिनमें से एक है Coindesk
यहां आप bitcoin rate जान सकते हैं।

कोई जरूरी नहीं कि आप बिटकॉइन ही खरीदें आप satoshi भी खरीद सकते हैं। satoshi बिटकॉइन की सबसे छोटी unit है। जो की 1 बिटकॉइन में 21 million satoshis होती हैं।

बिटकॉइन में Invest (निवेश) कैसे करें?

Bitcoin को लोग ज्यादातर Invest के तौर पर ही ले रहे हैं उसके बाद एक Alternative currency के तौर पर। इसलिए आप भी चाहें तो बिटकॉइन में निवेश कर सकते हैं।

क्योंकि इसका rate बहुत ज्यादा ऊपर नीचे होता रहता है।
इसलिए आप उतना ही निवेश करें जितना कि अगर नुकसान भी हो जाए तो आप पर कोई प्रभाव ना डाल सके।

इसमें निवेश करने के लिए आपको इसी पोस्ट में सुझाए गए किसी भी App या Exchange के माध्यम से bitcoin को purchase कर सकते हैं। यहां कुछ सावधानियां हैं जो आपको बरतनी चाहिए जब आप invest करने जा रहे हैं।

Invest करने के लिए Exchange की अपेक्षा Apps बेहतर होते हैं। क्योंकि एक्सचेंज के माध्यम से invest करने पर आपके हाथ मे फुल कंट्रोल नहीं होता आपके Assets पर, क्योंकि वो exchange के कंट्रोल में होता है।

बिटकॉइन का स्वभाव share market से भी थोड़ा रिस्की है। शेयर मार्केट में आप किसी भी शेयर की थोड़ी बड़ी prediction कर सकते हैं क्यों शेयर की एक तरह से फिजिकल चीज की तरह value होती है और पर्याप्त डेटा भी। लेकिन बिटकॉइन में ऐसा नहीं है। ये पूरी तरह Demand and supply पर निर्भर है और लोगों के तरजीह देने पर।

निवेश के लिए आप अपने बचत से कुछ पैसे Apps या online web based exchanges के जरिए निवेश कर सकते हैं। जब रेट हाई हो तो sale कर दें।

वैसे Bitcoin या किसी भी निवेश (Invest) से कमाए गए लाभ पर Government द्वारा Tax वसूल किया जाता है जो कि bitcoin पर भी लागू होता है इसीलिए सरकार बिटकॉइन Earners से tax वसूलती है।

बिटकॉइन वॉलेट और पेपर वॉलेट क्या हैं (What are bitcoin wallet and paper wallet)?

Bitcoin wallet वो digital account है जिसमें holder के Bitcoins और Private key व Public key store होती हैं।

Bitcoin को Store करने व trade करने के लिए हमें Digital “wallets” की जरूरत पड़ती है। ये एक तरह से बैंक खाते की तरह है।
Wallets एक तरह के खास program होते हैं जिन्हें आप अपने मोबाइल या कंप्यूटर में साधारण Apps की तरह Install करते हैं।

आप चाहें तो अपनी डिटेल्स (Bitcoins, keys) वगैरह Offline भी रख सकते हैं इसके लिए आपको bitcoin. com या  bitaddress. org से अपने printer की मदद से आप अपने डिटेल्स को एक paper wallet या QR code की शक्ल देकर उसे सुरक्षित रख सकते हैं।

इस साइट पर जाकर paper wallet को बनाने की process जान सकते हैं। Paper wallet सबसे safe तरीका है bitcoins को store करने के लिए।

भारत मे प्रचलित कुछ bitcoin wallets नीचे दिए गए हैं इनको Download>> Install>> account create करने के बाद इनका इस्तेमाल कर सकते हैं।

Wazirx

निश्चल शेट्टी द्वारा 2018 में इसकी शुरुआत की गई थी। ये एक Indian Cryptocurrency Exchange है और Wallet की भी सुविधा उपलब्ध कराता है। इसकी सर्विसेज भी बहुत अच्छी हैं।

इसपर लोगों का भरोसा इसलिए भी है क्यों कि Wazirx ही अकेला ऐसा Exchange जो RBI द्वारा लगाए गए प्रतिबंध के बाद भी Investers के लिए Open था जबकि Zebpay व अन्य Companies अपनी सर्विसेज बंद कर चुके थे।

ये Web व smartphones के लिए लगभग सभी प्लेटफॉर्म्स पर अपने Apps लांच कर चुका है जो लगभग 70+ Cryptocurrency में trade को सपोर्ट करता है।

Wazirx Withdrawl करने पर 0.0005 BTC और Trading करने पर fee 0.2% का charge वसूलता है। इसका UI बेहतरीन है और KYC में भी कोई दिक्कत नहीं है।

इसके माध्यम से कोई भी cryptocurrencies को buy-sell या invest कर सकता है।

Unocoin

Sathvik vishwanath व साथियों द्वारा Unocoin की शुरुआत 2013 में की हुई। Bangalore में इसके लोगों द्वारा Bitcoin ATM लगाकर चर्चा में आए Unocoin भी काफी अच्छा प्लेटफार्म है बिटकॉइन buy/sell या invest करने के लिए।

ये एक app-based व web-based दोनों platforms के माध्यम से सर्विस प्रोवाइड करता है । इसका इंटरफ़ेस अच्छा व तेज है, KYC की प्रक्रिया भी fast है।

बेहतर security के लिए 2 factor authentication की सुविधा देता है। buy/sell में भी सही है, लेकिन यहां पर कीमत अन्य apps से ज्यादा रहता है।

यहां आपको bitcoin buy/sell करने पर 0.7% चार्ज लगता है। अगर आप इसके Gold member हैं तो 0.5% का charge लगेगा।

यहां आप अपने mobiles को रिचार्ज कर सकते हैं व इसके बिटकॉइन referral प्रोग्राम earn भी कर सकते हैं जैसे अगर कोई आपके referral कोड का इस्तेमाल करते हुए कोई बिटकॉइन ट्रांसक्शन करता है तो आपको कमीशन मिलता है।

Zebpay

Mahin Gupta व साथियों द्वारा स्थापित Zebpay भी Crypto market में अच्छा Platform है। हालांकि RBI के प्रतिबंध के वक्त ये पहला Crypto exchange था जो सबसे पहले बंद हुआ था। लेकिन फिर ये नया शुरुआत करते हुए लोगों का भरोसा जरूर जीत लिया है।

इसकी सर्विसेज भी सभी प्लेटफॉर्म्स पर उपलब्ध हैं। ईसकी UI (User interface) भी काफी बेहतर व सिंपल है। यहां KYC verification की process भी जल्दी होती है।

इस एप्प के माध्यम से आप bitcoin buy/sell कर सकते हैं यहां तक कि आप bid भी लगा सकते हैं। इसकी अधिकतम transaction भी अधिक 50 लाख तक है।इसका customer support भी अच्छा है।

इनकी fee review देखने पर पता चलता है कि ये fee में बदलाव हाल ही में किए हैं जो बहुत अधिक से बहुत कम हुआ है। इसलिए trade शुरू करने से पहले zebpay साइट पर जाकर पता कर लेना बेहतर होगा।

बिटकॉइन इस्तेमाल करने के फायदे

  • बिटकॉइन एक डिजिटल cryptocurrency होने के कारण इसे कोई पर्स की तरह चुरा नहीं सकता।
  • अगर कोई आपके Public key एड्रेस जान जाता है तो दूसरी public key generate की जा सकती है।
  • इसके transactions आप दुनिया में कहीं भी कभी भी कर सकते हैं वो भी low transaction fee पर।
  • इसके transactions में Sender व receiver की पहचान नहीं जुड़े होने के कारण इसकी privacy व security भी बेहतर है।
  • इसके transactions peer-to-peer होने के कारण इसमें 3rd party की permission की जरूरत नहीं होती जैसे कि बैंक के currencies में 3rd पार्टी की जरूरत होती है।
  • सरकार के नियंत्रण में ना होने से ये पूरी तरह सुरक्षित है क्योंकि सरकारें इसे Seize नहीं कर सकतीं।
  • Bitcoins 21 million (1 million = 10 लाख की संख्या, भारतीय संख्या पद्धति के अनुसार) ही हो सकते हैं यानी ये लिमिटेड हैं।

बिटकॉइन इस्तेमाल करने के नुकसान

  • किसी भी online shopping की डिलीवरी ना होने पर payment को लेकर आप transaction को reverse नहीं करा सकते ।
  • Digital currency होने के कारण ऑनलाइन fraud और Cyber hacking के रेट में इजाफा हुआ है।
  • जहां एक ओर इसकी Popularity बढ़ी है तो वहीं दूसरी ओर Dark web के Black market में इसके easily funding को लेकर भी लोगों में चिंताएं बढ़ीं है।
  • अगर आप अपनी Private key भूल जाते हैं तो आप अपने bitcoins को भी भूल (lose) जाएंगे।

ये भी पढ़ें

दोस्तों, उम्मीद है ये पोस्ट पढ़कर आपको कुछ न कुछ बेहतर जानकारी मिली होगी। हमने अपनी तरफ से पूरी कोशिश की है कि पाठक बिना कुछ सीखे ब्लॉग से वापस न जाए। फिर भी कोई कमेंट/सुझाव हो तो आप हमें कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। हम हर कमेंट का उत्तर जल्दी से जल्दी देने की कोशिश करेंगे।

पोस्ट अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर share करना ना भूलें जिससे हमें Motivation मिले। धन्यवाद।

Content Protection by DMCA.com

2 COMMENTS

  1. Hello Sir.
    आपका ये Article बहुत ही अच्छा है आपने बहुत अच्छी जानकारी दी है इसके लिए आपको Thanks.
    मेरा भी एक blog http://www.finoin.com है जिसमें Share market and Mutual funds Investment की जानकारी दी जाती है.
    तो Please आप मुझे मेरे Blog {finoin. com} के लिए एक Backlink प्रदान करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here