What are Adsense CPC CTR Ad Impressions in hindi

What are adsense CPC, CTR, Ad impressions and their calculations in hindi

इस पोस्ट में मैं आपसे What is CPC, CTR, RPM, AD IMPRESSION & its Calculations इत्यादि के बारे में विस्तृत जानकारी साझा करूंगा।

Adsense के  या अन्य विभिन्न Terms एक तरह से Ads व उसके Performance के लिए Measuring tools का काम करते हैं।

इसके अंतर्गत हम जानेंगे कि Google adsense या अन्य affiliate marketing में विभिन्न Terms व उनके मतलब क्या हैं उन्हें कैसे manage करें।

यहां Manage शब्द इसलिये की कुछ चीजें सीमित रखनी चाहिए जैसे CTR ये जब बढ़ता है तो Adsense account पर ही खतरा मंडराने लगता है।

दोस्तों, हर अच्छे ब्लॉगर का मकसद यही होता है कि वो अपने ब्लॉग पर अपने पाठकों के लिए बेहतरीन Content लिखे जो उनके हर संदेह को दूर करने के साथ साथ काफी Useful हो।

लेकिन एक और लक्ष्य होता है वो ये की उसे ब्लॉग से अच्छी खासी Earning भी हो।

यही कारण है कि ब्लॉगर घण्टों कंप्यूटर स्क्रीन के सामने या स्मार्टफोन पर लगे रहते हैं।
खैर, चलिए विभिन्न हेडलाइंस के अंतर्गत हम इनके बारे में जानते हैं।

What is CPC?

CPC का मतलब Cost-per-Click होता है। जैसा नाम से ही स्पष्ट है ये Ads पर प्राप्त हुए Clicks पर Adsense की तरफ से मिलने वाला Cost है।

इसका मतलब ब्लॉग या दूसरे ऑनलाइन प्लेटफार्म पर दिखने वाले ads पर Visitors द्वारा किये जाने वाले Click से है।

खास बात ये है कि CPC को Advertisers व गूगल तय करते हैं और ये सबके लिए अलग-अलग होता है और बदलता रहता है।

इसके पीछे निम्न कारण हैं इसके high और low होने का, ये निर्भर करता है Visitor किस Keyword को Search करके आपके ब्लॉग पर आया है।

विजिटर किस (Region) देश से है जैसे UK, USA, Singapore, Australia जैसे विकसित देशों में CPC high है। यहां के visitors से CPC high मिलती है।

यही कारण है कि अंग्रेजी ब्लॉग ज्यादा सफल होते हैं।

वहीं keywords की बात करें तो Finance, Domain से संबंधित जानकारी देने वाले कीवर्ड्स पर high CPC मिलती है।

जिस कीवर्ड पर Ad Campaign चलाने वाली कम्पनियां high Bids लगाती हैं। उसी हिसाब से गूगल Revenue डिस्ट्रीब्यूट करता है।

जिसे आप Google keyword Planner में Bids के नाम से जानते हैं।

यानी कंपनी उस कीवर्ड पर होने वाले क्लिक्स के बदले उतने पैसे देगी।

अब गूगल Content creators को उनके Content पर वो Ad show करता है। जब कोई visitor उस Ad को देखेगा तो उसे Impression कहते हैं।

कोई जरूरी नहीं कि हर बार वो Ad show हो या एक ही Ad बार-बार शो हो।

उस Ad पर जब Visitor क्लिक करता है तो
Google Adsense उस blogger या कंटेंट क्रिएटर को उसे मिलने वाले CPC के हिसाब से पैसे देता है।

इसीलिए सभी bloggers अपने adsense CPC को कैसे Increase करें इसके बारे में लगातार जानकारियां जुटाते रहते हैं।

क्लाउड कंप्यूटिंग क्या है?

बिटकॉइन क्या है ये कैसे काम करता है?

PPL (Pay-per-lead) और PPS (Pay-per-sale) क्या हैं?

PPL- Pay per lead इस तरीके में जब भी कोई विजिटर Ad पर क्लिक कर कोई Action यानी Download, Subscribe, purchasing इत्यादि करता है तो ब्लॉगर को revenue generate होता है।

ये कंपनी के ऊपर Depend करता है कि वो किस तरीके से काउंट करती है। लेकिन ज्यादा पॉपुलर तरीका PPC और PPS हैं।

PPS- Pay-per-sale इसमें जब भी कोई विजिटर affiliate साइट पर जाकर किसी Ad पर क्लिक कर उसे खरीदता है, तो blogger को कमीशन बनता है।

What is CTR?

CTR से मतलब Click through rate से है। अगर किसी content पर 100 visitors आते हैं और उसमें से अगर 5 visitor किसी Ad पर Click करते हैं तो इसका CTR 5% होगा।

ये लगातार अगर 10% रहता है या इससे ऊपर जाता है तो आपके adsense account का Suspend होने का खतरा होता है।

इसे इस फार्मूले से Calculate करते हैं-

क्लिक्स की संख्या ÷ इम्प्रैशन ×100
            अथवा
Number of clicks ÷ Impression × 100

= CTR [ 2 ÷ 100 × 100] = 2%

इस तरह आप इसकी गणना कर सकते हैं।

– eSIM क्या है ये कैसे काम करता है?

Motherboard क्या है?

What is RPM?

RPM से तात्पर्य Revenue Per Mille होता है, जिसे Mille को हम Thousand से जानते हैं।
Roman numbers में X से 10, C से 100, जबकि M से 1000 होता है।

RPM आपको Ad Impressions पर प्राप्त हुए Revenue को दर्शाता है। इसे इसतरह भी कह सकते हैं कि ये आपको प्रति हजार Ad Imressions पर हुई Earning बताता है।

इसे ज्ञात करने का तरीका है,

EE ÷ Ad Impressions × 1000

जहां, EE = Estimated earning.

Ad Impression क्या है?

Visitor द्वारा विजिट किए गए Web Page पर Google द्वारा दिखाए गए Ads को Ad Impression कहते हैं।

जब कोई भी विजिटर आपके कंटेंट जैसे ब्लॉग या youtube videos को देखने या पढ़ने के लिए ओपन करता है तो गूगल उसे Ad show करता है। यही Ad impression है।

कभी कभी ये साइट slow होने या अन्य कारणों से Ad load नहीं होते तो Ad impression भी कम हो जाता है।

जबकि इसी Ad impression पर क्लिक्स की दर को Impression CTR कहा जाता है। वहीं प्रति हजार इम्प्रैशन पर हुए Earning को Impression RPM कहते हैं।

इसलिए साइट के Fast loading पर ध्यान दिया जाता है।

Estimated Earning क्या है?

ये वो earning है जो आपको मिलना है। हालांकि कभी कभी इसमें कटौती भी हो जाती है।

इसका कारण ये है कि आपको अंतिम पेमेंट Release करने से पहले adsense आपके क्लिक्स, विजिट्स इत्यादि की गहन जांच करता है ताकि कोई फ्रॉड क्लिक्स ना हुए हों, तब जाकर फाइनल पेमेंट release करता है।

ROAS क्या है?

ROAS का पूरा नाम Return on Ad Spend होता है। ये Term Digital marketing में इस्तेमाल होता है।

नाम से ही स्पष्ट है कि ये Advertisement पर किये गए खर्च के बदले मिलने वाले Return को बताता है।

मानलीजिए मैंने किसी प्रोडक्ट के लिए Ad कैंपेन चलाया जिसमे मुझे ₹20,000 खर्चा हुआ। जिसके बदले मुझे ₹60,000 का Sale हुआ।

तो इस दशा में मेरा ROAS होगा,

Total Sale ÷ Advertisement cost

60,000 ÷ 20,000 × 100 = 300
मतलब आपको 300% का फायदा हुआ Advert. Cost की तुलना में।

– Processor क्या है ये कैसे काम करता है?

– IRCTC क्या है इसपर User id कैसे बनाएं?

CPM क्या है?

इसका मतलब Cost-per-Mille यानी thousand होता है। ये term Online advertisers के लिए use होता है, जो अपने ads को किसी webpage पर show कराना चाहते हैं।

जैसे अगर वो अपने ads को किसी publisher से $2 CPM में शो कराना स्वीकार करते हैं तो इसका मतलब वो webpage पर प्रति 1000  Impression के बदले 2 डॉलर पब्लिशर को pay करेंगे।

इसमें विजिटर Ads पर क्लिक करने के नहीं बल्कि Ad शो होने के पैसे बनते हैं।

जो डोमेन (ब्लॉग,वेबसाइट्स) जितनी पुराना और पॉपुलर होता है उसपर ads भी अच्छे Rate के होते हैं। यानी उन्हें CPC, CPM वगैरह भी अच्छी मिलती है। 

CPM व CPC में क्या अंतर है?

Online marketing व brand awareness के लिए advertisers के बीच पॉपुलर सबसे पॉपुलर टर्म है CPC, CPM.

अगर कोई Advertiser अपने ad को CPM के साथ publish कराता है तो उसे प्रति 1000 Impressions पर पेमेंट करना होता है।

अगर advertiser CPC के साथ ads publish कराता है तो उसे प्रति क्लिक्स के पैसे देने होते हैं।

लेकिन CPM का इस्तेमाल Brand awareness के लिए अधिक Use होता है जबकि CPC selling में अधिक इस्तेमाल होता है।

Adsense glossary के बारे में विस्तृत जानकारी के लिए गूगल के ऑफिसियल साइट पर यहां क्लिक कर विजिट कर सकते हैं।

दोस्तों, उम्मीद है आपको ये छोटा सा प्रयास जो Adsense term के लिए था, जरूर पसंद आया होगा। अगर हां तो इसे सोशल मीडिया व अपने मित्रों के साथ जरूर Share करें। धन्यवाद।

 

Content Protection by DMCA.com

3 COMMENTS

  1. Firewall के बारे में आपने बहुत ही डिटेल्स से बताया है। इतनी ज्यादा डिटेल्स वाली पोस्ट मैंने आजतक नहीं देखि। Thanks for Sharing.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here