Home Blog eSIM क्या है ये कैसे कार्य करता है इसके फायदे क्या हैं

eSIM क्या है ये कैसे कार्य करता है इसके फायदे क्या हैं

eSIM kya hai? ये कैसे कार्य करता है?

दोस्तों आज हम बात करेंगे eUICC तकनीक पर आधारित eSIM के बारे में जो धीरे-धीरे हमारे बीच काफी लोकप्रिय हो रहा है। लोगों के मन में इसके बारे में जानने की उत्सुकता है।

eSIM एक Hardware पार्ट है जो हमारे मोबाईल में सीधे Soldering किया जाता है जबकि eUICC एक Software की तकनीक है। जो Remote sim provisioning की सुविधा उपलब्ध कराता है। जिससे आप अपने Carriers के प्रोफाइल्स Remotely चेंज कर सकते हैं।

तकनीक प्रेमियों के लिए तकनीक बिल्कुल रोमांस की तरह है जो कभी पुराना नहीं होता। eSIM भी इसी तकनीकी विकास की एक कड़ी है।

लेकिन नई टेक्नोलॉजी को जानने में रोमांच तब बढ़ जाता है जब तकनीक हाजिर होकर गैरहाजिरी का पता देती है। जी हां eSIM भी वही है। जबतक की हम Physical SIM को भूल नहीं जाते।

चलिए इसके बारे में हम अब कुछ गंभीरता से जानने की शुरुआत करते हैं।

eSIM

eSIM से तात्पर्य Embedded Subscriber Identity Module से है। इसे GSMA के द्वारा प्रोमोट किया जा रहा है। GSM यानी Global System for Mobile Communication. GSM एक अंतरराष्ट्रीय संस्था है जो नेटवर्क ऑपरेटर्स का प्रतिनिधित्व करती है।

GSM दुनिया की लगभग 800+ mobile operators के लिए telecommunication framework को तय करने के लिए जिम्मेदार संस्था है।

दुनिया की लगभग सभी mobile बनाने वाली कंपनियां GSM के Standards/Protocols का पालन करती हैं।

ये सभी मोबाईल फोन्स के IMEI (International Mobile Equipment Identity) को अपने IMEI database में रिकॉर्ड सुरक्षित करती है।

अपने मुख्य टॉपिक पर आते हैं, जो हम अपने mobile phones में सिम कार्ड इस्तेमाल करते हैं वो Mini, micro, nano वगैरह होते हैं।

लेकिन जो अब latest technology है वो eSIM की है जो आपको physical sim इस्तेमाल करने के झंझट से मुक्ति दिलाएगी। साथ ही उसके टूटने, खोने इत्यादि जैसे घटनाओं से भी आपको मुक्ति मिलेगी।

क्लाउड कंप्यूटिंग क्या है?

Bitcoin क्या है?

भारत सरकार द्वारा जारी दिशानिर्देश के अनुसार एक व्यक्ति को संपर्क सम्बन्धी इस्तेमाल करने के लिए अधिकतम 9 sim cards तथा machine-to-machine इस्तेमाल करने के लिए 9 sim cards जारी किए जा सकते हैं।

कुल मिलाकर एक व्यक्ति को अधिकतम 18 sim cards इस्तेमाल करने की इजाजत भारतीय कानून देता है। अब e-sim के इस्तेमाल से ये कोटा खत्म होने का डर नहीं रहेगा।

eSIM क्या है?

eSIM यानी Embedded SIM एक Physical sim कार्ड की जगह Virtual sim card इस्तेमाल करने की तकनीक है। ये एक तरह से digital sim है जो Programmable होता है।

इसका आकार Nano सिम कार्ड की तुलना में 60 गुना छोटा होता है। इसलिए ये सिमकार्ड ना होकर बेसिकली एक chip है। इसे फोन बनाने वाली कंपनियां मोबाइल फोन्स में ही In-built देती हैं।

इसे eUICC यानी Embedded Universal integrated circuit card भी कह सकते हैं। क्योंकि ये नेटवर्क कैरियर के लिए Universal support देता है। ये मुख्य रूप से एक circuit card होती है जो सीधे मोबाईल्स में Soldering कर के फिक्स कर दिया जाता है।

इसमें एक silicone chip होती है जो Confidential data या Subscription details को एक Secure software में आपके Phones/Devices में Store करती है।

उदाहरण के लिए यूरोपियन यूनियन में कारों के अंदर भी इसका इस्तेमाल होने लगा है जो इमरजेंसी जैसी स्थिति में पुलिस सहायता के लिए संपर्क (eCall) सुविधा उपलब्ध कराता है।

हमारे पुराने सिम कार्ड, जो कि अभी भी चल रहे हैं उन्हें आने वाले कुछ समय में पूरी तरह से eSIM द्वारा replace कर दिया जाएगा। क्योंकि कंपनियां अब स्मार्टफोन्स में space को बचाने के लिए इस तकनीक का इस्तेमाल करेंगी।

इससे फोन्स को और भी slim व Waterproof बनाने में मदद मिलेगी क्योंकि फोन में कुछ भी insert/eject करने की जरूरत नहीं रहेगी।

eSIM full form in English and Hindi

Embedded Subscriber Identity Module

eSIM full form in hindi
अन्तः स्थापित उपभोक्ता पहचान इकाई

eSIM कैसे कार्य करता है?

ये ठीक वैसे ही कार्य करता है जैसे हमारे अन्य फिजिकल सिम कार्ड्स, बस इनमे physical sim की जगह Rewritable virtual sim card होता है।

जो कि किसी भी network पर register होने के लिए जरूरी आपकी पहचान को अपने In-built e-sim slot (Silicone chip) में store करता है। ये store की हुई आपकी पहचान ही आपको service provider द्वारा network इस्तेमाल करने देने की वजह है।

ये एक तरह से Software based टेक्नोलॉजी है जो काफी Secure है। इसे कहीं भी खासकर किसी भी सर्किल या देश मे यात्राएँ करने वाले लोगो के लिए बहुत उपयोगी है।

इसमें Roaming की स्थिति में आप अलग-अलग Networks Operators को स्विच कर सकते हैं।

Bandwidth क्या है?

VPN क्या है?

भारत में लगभग सभी प्रमुख सर्विस प्रोवाइडर्स eSIM की सुविधा दे रहे हैं जैसे Airtel, Reliance jio, Vodafone Idea (VI). बस जरूरत है कि यूजर अपने phones की जांच करें कि वो eSIM support करता है कि नहीं।

हालांकि आपको पहले पता करना होगा कि ये आपके स्टेट में सर्विस उपलब्ध है या नहीं और है भी तो प्रीपेड या पोस्टपेड कनेक्शन्स में से किस पर है या दोनों पर उपलब्ध है।

Network operators फिजिकल सिम को ही e-Sim में Convert करने की सुविधा दे रहे हैं। लेकिन हमारा सुझाव यही है कि अगर आपका फ़ोन e-Sim सपोर्ट नहीं करता है तो उसे फिजिकल सिम पर ही काम करने दें।

Mobile पर eSIM कैसे Activate करें?

भारत में Airtel, Vi, QR code के माध्यम से eSIM services activation की सुविधा दे रहे हैं। जबकि jio उपभोक्ताओं को एक्टिवेशन के लिए नजदीकी Jio digital store या Retailer के पास जाना होगा।

किसी भी सेवा को चालू करने की प्रोसेस शुरू करने से पहले एक बार कंपनी के Customer care executive से बात कर जानकारी ले लें।

अगर आपको अपने मोबाइल से पैसों के ट्रांसक्शन्स करने हों तो उसके पहले eSim वाली प्रक्रिया ना ही करें तो बेहतर है। क्योंकि इस प्रोसेस में हो सकता है कि 2 दिनों तक सुरक्षा कारणों से आपके SMS/OTP services बंद रहें।

स्टोर पर Identity verification प्रक्रिया के बाद ई-सिम सुविधा मिल जाएगा। नीचे के पैराग्राफ में हम eSIM एक्टिवेशन प्रक्रिया को शुरू कराने की प्रक्रिया जानेंगे।

eSIM Jio पर कैसे Activate करें?

Jio पर eSIM activate करना हम दो तरीकों से जानेंगे। पहला काफी सरल है जबकि दूसरा थोड़ा Manually भरना है। चलिए शुरू करते हैं।

अगर आपका फोन iphone के version 12.1 या उससे ऊपर है तो इस पर निम्न steps follow करते हुए activate कर सकते हैं।

अपनी एक Id card, फोटोग्राफ व मौजूदा Jio Sim (Physical) के साथ नजदीकी Jio के अधिकृत स्टोर पर जाएं वहां eSIM के लिए पूछें और CAF फॉर्म भरकर Id verification की प्रक्रिया पूरी करें।

Id Verifiy होने के बाद मौजूदा फिजिकल जिओ सिम के नम्बर व आपके ID के आधार पर एक QR कोड Generate कर आपको देगा। ध्यान रहे आपके मोबाईल पर Internet connection होना चाहिए।

आपको बस वो QR Code अपने मोबाईल से Scan कर लेना है और अपने फ़ोन के Setting> mobile data >Add data plan पर जाकर क्लिक करें।

Add data plan पर क्लिक करते ही Camera on हो जाएगा। अब QR कोड को कैमरे के सामने कर उसे स्कैन कर लें। Scan करने के बाद Add data plan का एक और ऑप्शन आएगा उस पर क्लिक कर अपने लेवेल्स यानी Calls, Primary sim, मोबाइल data इत्यादि सेट कर Continue पर क्लिक करें।

इस तरह आपके मोबाईल पर eSIM succesfully activate हो जाएगी।

Manual तरीका

ID वेरीफाई कराने के बाद आप अपने घर आकर मैन्युअल तरीके से कर सकते हैं।

1:- अपने मोबाइल से SMS करें <GETESIM>_<32 digit EID>_<15digit IMEI No.> अब इसे 199 पर भेज दें।

2:- अब आप 19 अंकों का eSIM नम्बर और फ़ोन पर Configuration करने की detail sms द्वारा प्राप्त करेंगे।

3:- अब sms करें <SIMCHG>_<19 अंकों का eSIM no.> 199 पर।

4:- कुछ देर बाद आपको eSIM process को लेकर एक अपडेट मिलेगा।

5:- अपडेट मैसेज मिलने के बाद 1 लिखकर 183 पर भेज दें।

6:- अब आपको एक Automated call आएगा जिसपर आपको 19 अंकों का eSIM का अंक शेयर करना है।

7:- अब आपको eSIM activation का Confirmation msg. SMS के माध्यम से मिल जाएगा।

यहां तक आने के बाद आपका mobile network शो नहीं करेगा। आपको कुछ देर इंतजार करना है और नेटवर्क आने पर नीचे दिए निम्न स्टेप्स को फॉलो करने हैं।

8:- अपने फ़ोन के Setting में जाएं फिर Add Data Plan पर क्लिक करें। अपने डेटा प्लान मैन्युअली add करें।

9:- SM-DP+address वाले कॉलम में smdprd.jio. com.

10:- Activation code वाले सेक्शन में 19 अंकों का एक्टिवेशन कोड डालना है जो आपको पहले sms के माध्यम (Step 2) से मिला था।

11:- अब ऊपर दाहिने साइड में Next पर क्लिक करके Add data plan कर क्लिक करें।

12:- अब अपने अनुसार Data plan labels का चुनाव करें व Continue पर क्लिक कर दें।

अब आपका नया Jio eSIM सफलतापूर्वक आपके iphone पर Active हो गया है। अपने eSIM सेटिंग्स से operator के profile को delete ना करें।

eSIM Vodafone Idea

Step1:- अपने फ़ोन से मैसेज टाईप करें- <eSIM>_<Registered email id> एंटर करें व इसे 199 पर Send कर दें।

Step2:- अगर आपकी ईमेल आईडी सही है तो आपको एक confirmation msg. मिलेगा। इसे <ESIMY> लिखकर Reply करें।

Step3:- इसके बाद एक दूसरा msg. प्राप्त होगा जिसपर आपको लिखे नम्बर से एक फोन कॉल प्राप्त होगा उसे फॉलो करें।

Step4:- अब आपको आपके ईमेल आईडी पर एक QR (Quick response) कोड मिलेगा उसे बस आपको अपने मोबाइल से Scan कर लेना है।

Step5:- अब कुछ देर प्रतीक्षा करें जब आपके मोबाइल से network का signal गायब हो जाए तो उसी वक्त अपने मोबाइल से फिजिकल सिम कार्ड को निकाल दें।

अब आपका फ़ोन कुछ देर बाद सिग्नल शो करेगा। यानी आपका e-sim active हो गया है। कुछ देर बाद आपको एक पॉपअप ओपन होगा जिससे आप अपने सिम के लेवेल्स सेट कर सकते हैं जैसे primary sim, Data, calls इत्यादि।
अगर आप Android यूजर हैं तो अपने Setting–Add data plan पर जाकर सेटिंग को अपने हिसाब सेट कर इस्तेमाल शुरू कर सकते हैं।

eSIM Airtel

ये process भी VodafoneIdea की तरह है इसलिए हम वही स्टेप्स को करेंगे लेकिन message को 199 पर ना भेजकर 121 पर send करेंगे।

इसके बाद वाले मैसेज में “1” लिखकर Reply करें।

इसके बाद फोन कॉल को रिसीव कर फॉलो करें।

इसके बाद एक फाईनल Msg. जिसमें आपको आपके email id पर भेजे गए QR कोड की जानकारी मिलेगी। QR कोड को मोबाईल से स्कैन कर उपरोक्त VI वाली QR कोड वाले स्टेप्स फॉलो करें।

फिलहाल वोडाफोन, एयरटेल फिजिकल सिम कार्ड्स को ही e-sim में convert कर रहे हैं। ध्यान रहे ये process करते समय आपका मोबाइल Internet या Wifi से connected होना चाहिए।

बेहतर होगा की आप अपने email id को अपने PC पर sync कर लें जिससे QR code scan करने में आसानी होगी।

eSIM supported mobile Phones In India Android and iPhones

भारत में Android और iphone लिस्ट नीचे है जो कि esim support के साथ आते हैं। लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि आगे आने वाले phones, smartwatches इसे सपोर्ट नहीं करेंगे।

ये लिस्ट अबतक की है लेकिन आगे आनेवाले phones e-sim support के साथ ही आएंगे।

eSIM Support Android Mobiles

Samsung galaxy S20, S20+

Samsung galaxy S21+,S21 5G,S 21 ultra 5G

Samsung galaxy Note 20

Samsung galaxy Fold

Samsung galaxy Note20, Note 20 ultra

Samsung galaxy Z Flip, Fold, Z fold2

e SIM supported Huawei phones

Huawei P40, P40 Pro

Huawei mate 40 Pro

eSIM Supported phones Google and iPhones

Google pixel 3, 4, 5, 3a XL Series ई-सिम सपोर्ट के साथ आते हैं।
Iphones- iPhones 11,12, XR, XS, Max, mini, pro, SE 2(2020) ये सीरीज के फ़ोन मॉडल्स e-sim सपोर्ट के साथ आते हैं।

e-Sim Fraud क्या है और इससे कैसे बचें?

आजकल e-sim fraud की घटनाएं काफी बढ़ गई हैं। इसलिए हम इस टॉपिक को कवर कर रहे हैं ताकि लोगों में Awareness बढ़े। E-sim Fraud दरअसल फिजिकल सीम कार्ड की तुलना में बहुत बड़ी है।

इसमें अनजान व्यकि आपके फोन पर कॉल करता है और आपके फोन को e-sim पर Convert करने की जानकारी या अपडेट देता है।

जब आप राजी हो जाते हैं तो वो बस आपसे आपके मोबाइल से Message टाइप कर सर्विस प्रोवाइडर के नंबर पर भेजने को कहता है। ये यहां तक तो सही रहता है।

Broadband क्या है?

5G Technology क्या है?

इसके बाद वो आपकी Email id की जगह अपनी emai id देता है जो आप Message में add कर अपने सर्विस प्रोवाइडर को मैसेज भेज देते हैं। ये email id आपके नेटवर्क ऑपरेटर के नाम से मिलता-जुलता है। आप यही करके गलती कर देते हैं।

नतीजा होता है कि fraud करने वाले व्यक्ति के email id पर QR कोड चला जाता है। इससे वो अपने फोन से Scan कर आपका नम्बर वो इस्तेमाल करना शुरू कर देता। आपका नम्बर बन्द हो जाता है।

अब वो आपके मोबाइल नम्बर से जुड़े सारे बैंक एकाउंट का पता लगा लेता है और OTP (One Time Password) इत्यादि प्राप्त कर आपका खाता साफ कर देता है।

इसलिए फोन पर कभी भी किसी call को कोई संवेदनशील जानकारी ना दें और नाही शेयर करें। अगर जरूरी हो तो सतर्कता बरतें, पूरी जानकारी लेकर ही ऑनलाइन रिस्पांस दें या सर्विस को एक्टिवेट करें।

कोशिश करें कि ऑनलाइन के बजाय Authorized dealer/Retailer के पास जाकर Manually आइडेंटिटी verify कराकर सर्विस लें।

eSIM को Deactivate कैसे करें?

किसी भी Apps, Services को मोबाईल से सीधे Delete या Uninstall करने से पहले उसे Deactivate करके ही Delete करना चाहिए।

इससे आपको उस सर्विस को दुबारा अपने फ़ोन पर चालू करने में कोई समस्या नहीं होगी। साथ दूसरे ईसिम को लेने में या दूसरा ऑपरेटर चुनने में भी दिक्कत नहीं होगी।

इसीलिए हम अब eSIM को अपने मोबाईल फोन से Deactivate कैसे करें इस प्रक्रिया के बारे में जानेंगे। लेकिन किसी भी deletion को करने से पहले एक बार कस्टमर केअर में कॉल कर जानकारी जरूर ले लें।

अगर आप Android उपयोगकर्ता हैं तो अपने फोन के सेटिंग्स में जाएं व निम्न steps फॉलो करें-

Settings – Connections – Sim card manager – eSIM को चुनें – Disable – Remove or delete ये नेटवर्क carrier पर निर्भर करता है।

Airtel यूजर प्रोफाइल delete करने से पहले NOSIM (Postpaid यूजर के लिए) लिखकर 121 पर Message करें। इसके बाद ही eSIM के carrier प्रोफाइल को डिलीट करें।

अगर Prepaid यूजर हैं तो NESIM लिखकर 121 पर मैसेज करें।

अगर आप jio यूजर हैं तो मोबाईल से प्रोफाइल को सीधे डिलीट करने से पहले jio नम्बर से 198 पर कॉल करें और अपने आधार कार्ड के अंतिम 4 अंक उपलब्ध कराएं।

इसके बाद कारण जानने के बाद कस्टमर केअर एग्जेक्युटिव 30 मिनट के अंदर आपकी लाइन deactivate कर देगा।

अगर आप VI यूजर हैं तो 199 पर आपको कॉल करना पड़ेगा। उपरोक्त सभी Carriers के नम्बर्स राज्य के हिसाब से अलग-अलग हो सकते हैं।

e-Sim का भविष्य क्या है?

आनेवाले समय में PCs, Laptops, कारें सभी eSim के साथ आनेवाली हैं जिसे Switch On करते ही Connectivity स्वतः ही मिलने लगेगी।

तकनीक बदलते रहने वाली चीज है। शुक्र है कि विज्ञान नहीं बदलता सिर्फ तकनीक बदलती है। वरना रह ही क्या जाता इस बदलती हुई दुनिया में (:-।

एक अनुमान के मुताबिक 2025 तक लगभग 35% मोबाईल्स eSIM वाले होंगे। ये टेक्नोलॉजी इसलिए भी बेहतर है कि इसमें सिम कार्ड खोने या दुरुपयोग होने जैसी बात नहीं है।
Apple, Samsung, Motorola, Google जैसी बड़ी टेक कंपनियों ने इसे अपना लिया है। मतलब की अभी के लिए eSim एक विकल्प लगता है लेकिन भविष्य के लिए ये एक समाधान है।

E-Sim इस्तेमाल करने के फायदे व नुकसान

• eSIM के इस्तेमाल से मोबाईल में battery की खपत कम हो जाती है।

• बिना किसी फिजिकल सिम प्राप्त किए Travel करते हुए अलग-अलग networks में आसानी से स्विच किया जा सकता है। मतलब की Roaming शुल्क से निजात मिलेगी।

• eSim का आकार 2.5×2.3×0.2 है जो की Nano sim के 12.3×8.8×0.67 साइज से काफी छोटा लगभग 60 गुना से भी ज्यादा छोटा है। तकनीक में आकार बहुत मायने रखता है।

• सिम In-built होने से फोन्स को water proof बनाने में आसानी होगी।

• eSIM को एक मोबाईल से दूसरे मोबाईल में Transfer करने पर फिलहाल Physical sim की आवश्यकता पड़ती है और दो दिन तक SMS services बंद रहने से दिक्कत होती है।

• सिम चोरी नहीं हो सकता नहीं ना ही टूटने, स्क्रेच इत्यादि का खतरा रहेगा।

• फोन की बैटरी discharge हो जाने पर eSIM का तत्काल उपयोग नहीं किया जा सकता।

• कंपनियों के logistics में कमी व ग्राहकों को retailer के पास नए सिम के लिए बार-बार नहीं जाना पड़ेगा।

Conclusion

दोस्तों! उम्मीद है आपको हमारा ये आर्टिकल, eSIM क्या है ये कैसे कार्य करता है ? पसंद आया होगा। अगर हां तो इसे अपने दोस्तों संग सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूलें।

इसी तरह के अन्य technology based आर्टिकल्स को पढ़ने व नई तकनीक से अपडेट रहने के लिए हमारे ब्लॉग को Subscribe करना ना भूलें।

अगर इसे विकीपीडिया पर पढ़ना चाहते हैं तो यहां क्लिक करें।

अगर आपका कोई सवाल या सुझाव है तो हमें कमेंट सेक्शन में जरूर लिखें हम जल्द से जल्द उसका जवाब देने की कोशिश करेंगे। धन्यवाद।

 

Content Protection by DMCA.com

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here