Home Tech & Internet What is Broadband in hindi-DSL, Fiber-optic इत्यादि

What is Broadband in hindi-DSL, Fiber-optic इत्यादि

What is broadband and how it works in hindi

What is Broadband in hindi के इस पोस्ट में हम ब्रॉडबैंड इनके प्रकार व कार्य के बारे में विस्तार से जानेंगे।

Broadband हाई-स्पीड इंटरनेट डेटा access करने का माध्यम है।

जिसमे बैंड जो है वो ब्रॉड यानी विड्थ है। मतलब ये हुआ कि frequencies का समूह एक अकेले सिग्नल को carry करता है। जिसकी वजह से इसकी स्पीड पहले के डायल-अप कनेक्शन की अपेक्षा कई गुना बढ़ जाती है।

सिंपल भाषा मे बैंडविड्थ जितनी अधिक होगी डेटा की क्वांटिटी और क्वालिटी उतनी बेहतर होगी।

आजकल अगर आप कोई राऊटर खरीदने जाएं और दुकानदार से राऊटर, wifi, dongle इत्यादि नाम से डिवाइस मांगेंगे तो हो सकता है दुकानदार आपको एक ही डिवाइस देगा।

आजकल ब्रॉडबैंड कनेक्शन कनेक्ट करना हो या wifi या मॉडेम, डिवाइस बनाने वाली कंपनियाँ एक ही सेट-टॉप-बॉक्स में सभी जरूरी रिसीवर्स लगा के दे रही हैं। यानी कॉम्बो पैक जिसमे मॉडेम और राऊटर दोनो सेट आते हैं। (Modem= Modulator Demodulator)

बॉक्स के पीछे आपको वायर कनेक्शन के लिए अलग अलग होल मिल जाते हैं। जिससे आप केबल कनेक्ट कर ब्रॉडबैण्ड या अन्य wired इंटरनेट इस्तेमाल कर सकते हैं।

इसके पहले की हम Broadband पर आगे बढ़ें इससे पहले हम Dial-up connection के बारे में थोड़ा जान लेते हैं।

ये डायल-अप कनेक्शन को DSL ने Replace किया। पहले हमारे घरों में आने वाले टेलीफोन केबल से हम इंटरनेट भी इस्तेमाल करते थे।

लेकिन इसमें गड़बड़ी ये होती थी कि हम एक समय मे एक ही चीज उपयोग कर सकते थे। चाहें हम बात करें या फिर इंटरनेट Use करें।

यानी ISP (Internet service provider) की तरफ से हमे निर्देशित किया जाता था कि हम एक Specific नम्बर डायल करें। जब हम नम्बर डायल करते थे तो हमारे ISP हमें नेट से जोड़ देते थे। इधर हम फ़ोन को उठा कर साइड में रख देते थे। क्योंकि बिना ऐसे किए लाइन चालू नहीं रह सकती थी।

ऐसे में हम नेट तो Use करते थे लेकिन फ़ोन कहीं से भी आ या जा नहीं सकता था। इसे ही Dial-up कनेक्शन कहा जाता है।

इसके बाद आया ब्रॉडबैंड ; जबतक plugged out न किया जाय तबतक चालू ही यानी ON ही रहेगा।

अब हम ब्रॉडबैंड के बारे में जानेंगे।

हमारे घर मे लगने वाले ब्रॉडबैंड 4 अलग अलग फॉर्म में होते हैं।
1- Fiber-optic
2- DSL
3- Cable
4- Satellite

Fiber-optic

सबसे नई टेक्नोलॉजी आई है वो है फाइबरऑप्टिक। इसमें फाइबर और गिलास का उपयोग डेटा transmission में किया जाता है।

इसकी इंटरनेट प्रोवाइड कराने की स्पीड DSL व Cable माध्यम से तेज है, या यूं कह सकते हैं कि सबसे तेज है

लेकिन इसके फाइबर-ऑप्टिक केबल्स को जमीन के नीचे बिछाने में समय व खर्च दोनो ज्यादा आता है। लेकिन इसकी डेटा स्पीड इसके इंस्टालेशन में आने वाले खर्च को महंगा साबित नहीं होने देती।

Fiber-optic कैसे कार्य करती है

इसमें हमारे डेटा Light form में Convert होकर लगभग Light ही यानी प्रकाश की गति में ट्रेवल करती हैं। ये जिस माध्यम में गति करती हैं वो पाइपनुमा बहुत ही पतली यानी इंसानी बाल जितना महीन धागे जैसी संरचना की पाइप होती है जिसमे हमारा डेटा travel करता है।

फिर अपने सर्वर तक पहुंचने पर इसे वापस लाइट फॉर्म से digital form में बदल दिया जाता है।

DSL (Digital subscriber line)

DSL connection दो तरह के होते हैं पहला होता है :- ADSL व दूसरा SDSL

ADSL-Asymmetric digital subscriber line –
आजकल सबसे अधिक उपयोग इसी कनेक्शन का होता है। इसमें हम Phone call के दौरान भी Internet का Use कर सकते हैं। क्योंकि फोन कॉल और इंटरनेट के लिए इसमे स्प्लिटर से दो अलग अलग पोर्ट मिलते हैं।

ADSL व SDSL कैसे कार्य करता है

ADSL– इसमे तमाम कम्पनियां जैसे BSNL, Airtel इत्यादि अपने केबल के जरिए आपके बिल्डिंग या पास में एक बोर्ड लगाती हैं जिसे Splitter कहते हैं।
इस स्प्लिटर में कई पोर्ट होते हैं जिनके माध्यम से लोगों को कनेक्शन बांट दिए जाते हैं।

हम इन स्प्लिटर से अपने घर मे जब केबल लाते हैं तो और एक स्प्लिटर लगाते हैं। जिसमें दो पोर्ट होते हैं एक फ़ोन लाइन के लिए और दूसरा इंटरनेट इस्तेमाल के लिए।

हम इंटरनेट इस्तेमाल होने वाले वायर को Modem से कनेक्ट कर देते हैं ताकि वायर से आने वाले एनालॉग सिग्नल्स को मॉडेम वापस digital फॉर्म में कन्वर्ट कर दे।

बिना डिजिटल फॉर्म में कन्वर्ट किए कंप्यूटर इसे समझ नहीं पाता है। क्यों की कंप्यूटर सिर्फ डिजिटल फॉर्म में डेटा को recognize करता है।

अब मॉडेम में कनेक्ट करने के बाद आप wifi के द्वारा या सीधे कंप्यूटर से कनेक्ट कर इंटरनेट इस्तेमाल कर सकते हैं।

अब तो Modem और Router एक ही set-टॉप-बॉक्स में आने लग गए हैं इसलिए अलग अलग दो Devices खरीदने की जरूरत नहीं पड़ती।

ADSL Connection में हमे डाउनलोड की speed ज्यादा मिलती है। लेकिन अपलोड की speed थोड़ी कम होती है।

SDSL (Symmetric digital subscriber line) इसमे डाउनलोड और अपलोड स्पीड दोनो बराबर स्पीड में होती है। इसमें भी call के दौरान Internet का इस्तेमाल कर सकते हैं। बाकी सब ADSL की ही तरह काम करती हैं।

हालांकि अब DSL का अपग्रेडेड version आ गया है जिसे VDSL यानी very high bitrate DSL कनेक्शन कहते हैं।

VDSL में fiber-optic केबल का use होने से इसकी स्पीड काफी ज्यादा लगभग 50 mbps से अधिक का होता है।
अब देखते हैं VDSL 2 में क्या मिलता है।

Cable

इस प्रकार के कनेक्शन घरों में आने वाले TV सेट के केबल्स के through आते हैं। इनके द्वारा उपयोग में लाए जाने वाले कोएक्सल (coaxle) केबल होते हैं।

इन केबल्स में स्टेशन से घर तक पहुंचने में दूरी बढ़ने पर केबल में शोर-गुल(नॉइज़) बहुत ज्यादा हो जाती है और net की speed धीमी हो जाती है।

इनकी बैंडविड्थ निर्धारित होने की वजह से Users की संख्या बढ़ने पर इंटरनेट की स्पीड धीमी हो जाती है।

हालांकि केबल ऑपरेटर चाहें तो आपको ज्यादा स्पीड में डेटा उपलब्ध करा सकता है। लेकिन इसमें एक दिक्कत ये आती है कि ये जो bandwidth उपयोग करते हैं वो Shared होता है।

यानी इनके द्वारा उपलब्ध कराई जाने वाली इंटरनेट सर्विस में Users की संख्या बढ़ती है तो internet की स्पीड slow हो जाती है।

जैसे-जैसे Users की संख्या कम होती है वैसे-वैसे स्पीड नार्मल होने लगती है। हालांकि इनकी Price थोड़ी कम भी होती है।

Satellite

सैटेलाइट के माध्यम से इंटरनेट अधिकतर उन Areas में उपलब्ध कराया जाता है, जहां के भौगोलिक स्थिति दुर्गम, दूर-दराज और पहाड़ी हो।
जहां आसानी से कोई भी भूमिगत केबल्स ना बिछ पाएं। इसका इंस्टालेशन काफी महंगा है।
अगर मौसम बहुत खराब हो जाए तो ये लगभग ठप्प हो जाता है।

What is broadband के विषय मे अधिक जानकारी के लिए आप इसे विकिपीडिया पर पढ़ सकते हैं।

दोस्तों, हमारा उद्देश्य आपको उच्च क्वालिटी की जानकारी से परिपूर्ण पोस्ट्स देने की रहती है। इसलिए कमेंट बॉक्स में पोस्ट कैसा लगा जरूर बताएं। अगर आपको हमारी ये पोस्ट पसंद आई हो तो अपने दोस्तों के साथ व सोशल मीडिया पर share करना ना भूलें। साथ ही हमारे नए पोस्ट्स की जानकारी ईमेल द्वारा सबसे पहले पाने के लिए ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें।

इन्हें भी देखें

◆ शेयर मार्केट क्या है – पूरी जानकारी जानकारी

◆ What is Seo in hindi

◆ How to use a custom domain on blogger in hindi हिंदी में सीखें

 How to make a website in hindi a step by step hindi guide

◆ सरदार वल्लभभाई पटेल Biography व Statue of Unity

◆ बैंडविड्थ (Bandwidth) क्या है

 20 Best Seo tools वेबसाइट/ब्लॉग के लिए

 Top 5 Open source free एंटीवायरस PCs के लिए

 What is computer in hindi अंग, कार्य व इतिहास

 Cloudflare पर Properly साइट को कैसे Add

 

Content Protection by DMCA.com

8 COMMENTS

  1. Hey very nice blog!! Man .. Beautiful .. Amazing .. I’ll bookmark your I’m happy to find a lot of useful info here in the post, we need work out more techniques in this regard, thanks for sharing. . . . . .

  2. Thank you for this article. I’d also like to say that it can be hard while you are in school and merely starting out to initiate a long history of credit. There are many college students who are merely trying to make it through and have a lengthy or beneficial credit history can often be a difficult matter to have.

  3. I’m really enjoying the theme/design of your site. Do you ever run into any internet browser compatibility issues? A few of my blog readers have complained about my blog not working correctly in Explorer but looks great in Safari. Do you have any ideas to help fix this problem?

  4. Good website! I truly love how it is simple on my eyes and the data are well written. I’m wondering how I might be notified whenever a new post has been made. I have subscribed to your feed which must do the trick! Have a great day!

  5. Terrific work! This is the type of information that should be shared around the net. Shame on Google for not positioning this post higher! Come on over and visit my site . Thanks =)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here